Dec 8, 2011

अभी फुर्सत का समय नहीं है......मीलों चलना है आगे !


By on 6:56 AM

  बड़े तामझाम के साथ शुरू किया गया पहली अप्रैल 2010 से देश में नि:शुल्क एवं अनिवार्य बाल शिक्षा अधिकार अधिनियम, 2009 लागू हो चुका है। इस महत्वाकांक्षी कानून की मंशा छह से 14 वर्ष तक के सभी बच्चों को शिक्षा का हक दिलाना है। सरकार की मंशा के बावजूद इस कानून को यथार्थ के धरातल पर उतारना आसान साबित नहीं हो रहा है। केन्द्र सरकार द्वारा शिक्षा के अधिकार (RTE) को लागू किए एक वर्ष से अधिक का समय बीत चुका है। अपनी स्थानिक जरूरतों और परिस्थितियों के हिसाब से कुछ नियम बनाने और उन्हें लागू करने के लिए राज्य-सरकारों को मिली एक वर्ष की मियाद भी अब समाप्त हो चुकी है। इस कानून के सही-गलत से बढ़कर अब बहस वर्तमान समय में पूरी तरह इसके कार्यान्वित करने के पहलुओं और बिंदुओं पर केन्द्रित हो गई है। सभी बच्चों का नामांकन, उनकी स्कूल की पहुंच और उनमें मूलभूत सुविधाएं, शिक्षक-शिक्षार्थी अनुपात आदि मौजूदा बहस के अंतर्गत हैं।


कानून के पारित होने से पहले इस कानून के माध्यम से भारत के प्राथमिक शिक्षा के परिदृश्य में बुनियादी परिवर्तनों की लंबी लिस्ट को अक्सर गिनाने वाले लोग अब लगभग पूर्णतयः खामोश खामोश हो चले हैं। पिछले एक वर्ष में राज्यों में नियम बनाने की कोताही भरी हलचल रही है और इस बीच कुछ नियमों - विनियमों को लागू करने के आदेश भी जारी हुए। इसके बावजूद कई राज्य सरकारों के पास इसे लागू करने की कोई स्पष्ट योजना नजर नहीं आती। अब तक हुए अनुभव कम से कम यह बताते हैं कि इस कानून को लेकर सभी राज्य सरकारों की कितनी प्रतिबद्धता है, इस कानून को लेकर उससे जुड़े लोगों की जागरूकता का स्तर क्या है और निजी / पब्लिक स्कूलों द्वारा इसके प्रावधानों का किस तरह खुल्लम-खुल्ला उल्लंघन किया जा रहा है या वे किसी भी तरह से बच निकलने के चोर दरवाजे खोज रहे हैं।


यदि निजी / पब्लिक स्कूल अपनी मनमानी के लिए स्वतंत्र हैं और सरकारें इन पर किसी भी तरह का नीति - नियंत्रण स्थापित नहीं कर सकती तो शिक्षा के अधिकार (RTE )कानून का उन बच्चों और उनके माता-पिताओं के लिए क्या अर्थ बनता है जो इन निजी / पब्लिक स्कूलों में पढ़ते हैं ? शिक्षा का अधिकार स्पष्ट तौर पर उल्लेख करता है कि किसी भी स्कूल में बच्चों या उनके माँ-बाप की प्रवेश परीक्षा नहीं ली जाएगी, किसी भी तरह की डोनेशन नहीं ली जाएगी; इसके बावजूद इन स्कूलों ने इन सारे अंकुश भरे नियमों को ताक पर रखकर इनसे बचने के रास्ते निकाल लिए हैं या यह खोज अब भी जारी है। इस कानून के आने के बाद ये सारी चीजें / कवायदें पहले की तरह खुल्लम-खुल्ला रूप में तो नहीं हो रही हैं लेकिन असलियत में तो तो यह मनमानी ही कर रहे हैं। यदि कोई माता-पिता / संगठन इसके विरोध में स्कूल में आवाज उठाता है तो उनके पास हजारों बहाने होते हैं, उन्हें स्कूल से बाहर का रास्ता दिखाने के। हमारे सिस्टम की बिडंवना ये है कि ये स्कूल न तो बच्चों के माता-पिताओं के प्रति अपनी जवाबदेही महसूस करते हैं और न ही कानून के अनुपालन के प्रति प्रतिबद्ध दिखाई देते हैं। 


इस कानून की निगरानी करने वाले राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग ने भी सरकारों के इस रवैये पर निराशा जाहिर की है। सामाजिक नागरिक संगठनों के मंच आरटीई फोरम की एक रिपोर्ट के मुताबिक राजनीतिक इच्छा शक्ति की कमी, केंद्र-राज्य सहयोग का अभाव, स्कूलों और अध्यापकों की कमी ऐसे कारण हैं जिसके चलते शिक्षा का अधिकार कानून का फायदा जरूरतमंद बच्चों को नहीं मिल पा रहा है। फोरम के मुताबिक आरटीई के लागू होने के एक साल बाद भी इस कानून के मुख्य प्रावधानों को अमलीजामा नहीं पहनाया जा सका है जो काफी निराशाजनक है। इस कानून में स्पष्ट रूप से 25 प्रतिशत वंचित / कमजोर वर्ग के बच्चों को निजी / पब्लिक स्कूल में मुफ्त शिक्षा पाने का अधिकार दिया गया है लेकिन हमारी नजर में अभी तक एक भी ऐसा स्कूल नहीं आया है जिसने इस नियम का पालन करने में कोई पहल की हो। 


एक वर्ष से ज्यादा का समय बीतने के बाद भी सरकारों के पास अभी तक इस बात के कोई रिकॉर्ड मौजूद नहीं हैं कि किस निजी / पब्लिक स्कूल में कितने बच्चे पढते हैं और उनमे वंचित/ कमजोर वर्ग के बच्चों की निश्चित संख्या क्या होगी। भले ही इस कानून के तुरंत कार्यान्वित करने के आदेश केन्द्रीय और राज्य सरकारों ने जारी कर दिए हों लेकिन अभी भी सभी सरकारों के पास इसे पूरी और सही तरह से लागू करने का कोई स्पष्ट नक्शा नहीं है। शिक्षकों की भारी कमी के चलते सवाल तो पहले से ही खड़े हो रहे हैं ऊपर से इस कानून के प्रावधानों को पूरा करने के लिए आधारभूत ढांचा तक नहीं है। 


कानून की निगरानी का दायित्व संभाल रहे राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग को इसकी पहली समीक्षा तीन साल बाद करनी है, लेकिन उसे पहले एक साल के अपने आकलन में निराशाजनक तस्वीर हाथ लगी है, हालांकि उसे जल्द ही हालात सुधरने की उम्मीद है। एक वर्ष से अधिक का समय बीत जाने के बाद भी पूरे देश में करीब 10 लाख शिक्षकों की जगहें खाली हैं, अकेले उत्तर-प्रदेश में ही करीब एक लाख से ज्यादा शिक्षकों के पद खाली हैं लेकिन अभी इस दिशा में सरकार किसी तरह की कार्यवाही करती नहीं दिखतीं। उत्तर-प्रद्देश में शिक्षकों के भर्ती नियमों में रोज रोज संशोधनो के जरिये सरकार ने पूरी चयन प्रक्रियायों को ही न्यायालयों के घेरे में ला दिया है। इस कानून के आने के बाद यह जरूर हुआ है कि इस कानून के प्रावधानों की शर्तों / प्रावधानों को पूरा करने के नाम पर सभी सरकारें इन्हें जैसे-तैसे / उलटा-सीधा पूरा कर देना चाहती हैं। मनमाने  ढंग से दूरस्थ कोर्स शिक्षक शिक्षा में प्रस्तावित किए जा रहे हैं जमीनी स्तर पर उनका क्रियान्वयन/ संचालन देखकर जिन्हें पूरी तरह से खानापूर्ति के अलावा कुछ और नहीं कहा जा सकता। 


मूल सवाल शिक्षा की गुणवत्ता का है। सभी बच्चों को शिक्षा देने जितना ही जरूरी यह भी है कि सभी बच्चों को स्तरीय शिक्षा दी जाए। शुरू में एक राय यह थी कि हर स्कूल की हर कक्षा में न्यूनतम इन्फ्रास्ट्रक्चर क्या हो, यह तय करके इसे लागू किया जाए, तो काफी बड़ा बदलाव लाया जा सकता है। यह आकलन भी जरूरी है कि बच्चे सचमुच कितना सीख पा रहे हैं। सिर्फ सबको शिक्षा देने की औपचारिकता पूरी करने वाले नजरिये से वह मकसद कभी हासिल नहीं हो सकता, जिसके लिए शिक्षा का अधिकार कानून बनाया गया। सरकार चाहे सभी तक शिक्षा पहुंचाने के कितने ही दावे करे लेकिन इस कानून के क्रियान्वयन और पालन में जिस तरह की अनमनी चाल वह चल रही है, उससे उसके प्रति संकल्प और प्रतिबद्धता का पता तो चलता ही है। आरटीई कानून लागू होने के एक साल बाद भी एक चौथाई बच्चे स्कूल से बाहर हैं। इस कानून के आने से पहले इसे लागू करवाने वालों के लिए फुर्सत का समय अभी नहीं आया है, ........ अभी मीलों चलना है आगे!

Praveen Trivedi ~ प्रवीण त्रिवेदी

अपनी जन्मस्थली जनपद फतेहपुर मे बेसिक शिक्षा परिषद के अंतर्गत प्राइमरी के मास्टर के ऱूप मे कार्यरत हूँ। हमेशा से मेरा यह मानना रहा है, कि हमारी स्कूली व्यवस्था मे ऐसा कुछ ज़रूर होना चाहिए जिससे शिक्षक सफलता का लगातार एहसास करते रहें।

8 comments:

  1. बच्चों की शिक्षा कि गुणवत्ता ही देश का भविष्य भी तय करती है | सरकार के साथ ही पब्लिक स्कूल भी अपनी जिम्मेदारी समझें यह ज़रूरी | बहुत दुखद है कि हमारे देश में शिक्षा और स्वास्थ्य जैसी बातें भी राजनीतिक दावपेचों का शिकार हो फाइलों में ही उलझ जाती हैं......

    ReplyDelete
  2. भाई ,आज मुख्य सवाल शिक्षा की गुणवत्ता को लेकर उठ रहा है.हमें तो सरकार के असल उद्देश्य ही नहीं समझ में आ रहे हैं.करोड़ों रूपये के बजट को ठिकाने लगाने के नाम पर केवल कागजों में शिक्षा दी जा रही है.

    सबसे बुरा हाल तो राज्य-संचालित विद्यालयों का है,जहाँ यदि बच्चे हैं तो पर्याप्त कमरे और शिक्षक नहीं हैं और जहाँ यह सब है वहाँ बच्चे नहीं हैं!

    बाल अधिकार,शिक्षा का अधिकार सब कागजों में मिला हुआ है. पब्लिक स्कूल के प्रबंधन में कोई दखल नहीं है.वहाँ शिक्षा का वातावरण है जबकि सरकारी विद्यालयों के प्रति उदासीनता है इसलिए कि वहाँ गरीब छात्र पढते हैं !

    अब इस शिक्षा जैसे मसले पर किसे चिंता है ?

    ReplyDelete
  3. आपके अवलोकनों से सहमत,

    प्रश्न बड़े गहरे हैं,
    पर संवाद पर पहरे हैं।

    ReplyDelete
  4. अधिनियम, कानून और प्रशासन ये सब राजनीतिक चोचले हें. अधिनियम बनाने में सरकार बहुत चुस्त होती है क्योकि कल उन्हें अपनी उपलब्धियों की सूची में शामिल करके अपनी पीठ ठोकने का एक कारण सामने होता है. ये अधिनियम सिर्फ और सिर्फ कागजों पर लागू होते हें. उनके सहारे खाने वालों के लिए रास्ते खुल जाते हें.
    मेरे घर के सामने एक दुकाननुमा शटर से बंद कमरा है, जिसको किसने किराये पर लिया नहीं मालूम - सुबह दस बजे बाहर के कच्चे चबूतरे पर मोहल्ले के आवारा घूमने वाले गरीब बच्चों को इकठ्ठा करके बिठा लिया जाता है. कहीं से बाल्टी में कुछ बन कर आ जाता है. उस दुकान में बोरों में भरे अनाज ही समझ आता था. बच्चों को दोनों में या फिर उनके लाये बर्तन में कुछ खाने के लिए दिया जाता और १२ बजे दुकान बंद. दो टीचर नुमा महिलाएं. उनको हिंदी नहीं बल्कि ए बी सी डी जोर जोर से चिल्ला चिल्ला कर पढ़ाती नजर आती बस २०-२५ मिनट तक और फिर दुकान का काम ख़त्म. बताएं ये कौन सी योजना के अंतर्गत आता है.
    शिक्षा का यह रूप अधिनियम के उद्देश्य को पूरा कर रहा है शेष सुविधाएँ कहीं और जा रही हें.

    ReplyDelete
  5. सही कहा...अभी मीलों चलना है आगे।
    बढ़िया अवलोकन।

    ReplyDelete
  6. @ummaten commented on your post "फिफ्टी परसेंट चांस है कि मीलों चलना पड़े और फिफ्टी परसेंट ये भी कि रास्ता अंतहीन बना रहे !"

    ReplyDelete
  7. सरकारी स्कूलों की हालत देख कर तो नहीं लगता कि गुणव्त्ता आएगी॥

    ReplyDelete
  8. Very Nice Article....Hard to believe we are living in the world where once Nalanda and Takshashila like university was present.
    Paritosh
    www.dr3vedi.blogspot.in

    ReplyDelete

Bell Books DOWNLOAD EDUCATION Exam Management Flag Gandhi golgappa GREETINGS Hanuman Humour HYGENE Intro INVITATION JUSTICE lock MATHS MEDIA Mid Day Meal mp3 NCERT NEWS AND VIEWS nursury PERSONALITY Postal Primary Teachers QUOTE REPORT rhymes RTE SCHOOL SCIENCE SERVICES SOCIETY SOFTWARE Theft अक्षमता अच्युतानंद अनुभव अनुशासन अपंगता अब्राहम लिंकन अमर उजाला अमिताभ बच्चन अयोध्या असफल असर आँसू आई.सी.एस.ई आईआईटी आचार संहिता आचार्य रजनीश आतंकवाद आत्मविश्वास आमंत्रण आर्थिक पक्ष आलोचना इंटरव्यू इंडिया टुडे इतिहास ईश्वर उच्च शिक्षा उच्चारण उत्तर प्रदेश उत्तराखण्ड उत्साह उद्देश्य उन्नति उपदेश उपलब्धियां उपेक्षा एकल विद्यालय एन.पी.ई.जी.ई.एल. एनसीटीई ऐश्वर्य ऑनलाइन ट्रांसफर कक्षा कक्षा व्यवस्था कबीरवाणी कमजोर कमुनिटी ब्लॉग करिश्मा कर्तव्य कर्म कलह कल्पनाशीलता कविता कविता स्कूल कष्ट कस्तूरबा कस्तूरबा गांधी आवासीय बालिका विद्यालय योजना कस्तूरबा गांधी बालिका विद्यालय योजना काँटा काम कामकाजी महिला कायर कार्बोहाइड्रेट कार्य किताब किन्डरगार्टन केंद्रीय विघालय कॉलेज कौशल खड़ी बोली खतरनाक खोज-बीन ख्वाहिश गणित गणित का सौन्दर्य गणित शिक्षण गतिविधि गतिविधियाँ गतिविधियां गरम गाँधी जी गाइड गिजुभाई बधेका गीत गीता गुजरात गुणवत्ता गुणवत्ता प्रमाण-पत्र गुरु गुलाम गुस्सा गूगल गेंदा फूल ग्राम प्रधान ग्लूकोज घड़ी घरेलू कार्य घुटन चरित्र चर्चा चिंतन चीज छात्र छात्र-अद्यापक अनुपात छोटी बिटिया जंज़ीरें जगत जगदीश सोलंकी जगमोहन सिंह राजपूत जन गण मन जन सूचना अधिकार जन-प्रतिनिधि जनता जल जल कर जांच जागरण जिंदगी जिज्ञासा जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी जिला शिक्षा एवं प्रशिक्षण संस्थान जीवन जीविका जेलखाना जोश ज्ञान ज्ञानी टाइपिंग टिप्पणी टीचर टीचर्स ऑफ़ इंडिया टेम्पलेट टैक्स टैगोर ट्रेनिंग ठंडा ठण्ड डाक्टर डायट डॉ.सुशील जोशी डोमेन ड्राप आउट ड्रेस तकनीकी तर्क-वितर्क तलवार तार्किकता तैनाती तैयारी थॉमस अल्वा एडिसन दण्ड दरिद्रता दर्पण दर्शन दलाल दवा दस्तकारी दिनेशराय द्विवेदी दिल्ली -6 दिशा दीपावली दुःख दुनिया दुर्जन देव आनंद देश देश का भविष्य देश भक्ति दैनिक जागरण दोष द्वेष धन धर्म नई तालीम नक़ल नर्सरी नवाचार नवोदय विघालय नाटक नामकरण नाव नियमावली नियुक्ति निरक्षर निरक्षरता नेत्र नौकरी न्याय पका-पकाया भोजन पठन क्षमता पढ़ना पत्र पथ पदाधिकारी पदोन्नति पब्लिक -प्राइवेट-पार्टनरशिप परिवर्तन परिवार परीक्षा परीक्षा व्यवस्था परोपकारी पर्यावरण पर्ल एस. बक पहचान पाठ पाठशाला पाठ्य-पुस्तकें अध्यापक पाठ्यक्रम पाठ्यपुस्तक पानी पाप पाबला पार्थिव पावर पॉइंट पाषाण पिछड़ापन पिटाई पिटारा टूल बार पिता पुत्र पुरस्कार पुरुषार्थ पुष्प पुस्तक पुस्तकालय पूर्व-प्राथमिक शिक्षा पेंशन पेयजल पॉडकास्ट पोर्टल प्यार प्रकाश प्रकृति प्रचार प्रजा प्रभु चावला प्रयोग प्रलय प्रवीण त्रिवेदी प्रशिक्षण प्रसंग प्रस्तुति प्राइमरी का मास्टर प्राइमरी शिक्षा प्राइवेट स्कूल प्राथमिक विद्यालय प्राथमिक शिक्षक प्राथमिक शिक्षक संघ प्राथमिक शिक्षा प्रेम प्रोफाइल पढ़ने की दक्षता फतेहपुर फल फिल्मी फीडबैक फीस फूल बच्चा बच्चे बच्चे एवं समस्या बच्चों का होमवर्क बच्चों की परवरिश बहराइच निर्वाचन बहाव बहुकक्षा शिक्षक और छात्र अनुपात बात-चीत बाल अधिकार बाल-केंद्रित शिक्षा बाल-साहित्य बालगीत बालदर्शन बालश्रम बालिका शिक्षा बिच्छू बीआरसी बीएड बुनाई बुनियादी शिक्षा बुराई बेरोजगार बेसिक शिक्षा बेसिक शिक्षा अधिकारी बेसिक शिक्षा परिषद बेसिक शिक्षा परिषद् बेसिक शिक्षा विभाग बैठक व्यवस्था बोलना बोली ब्लॉग ब्लॉग मदद ब्लॉग-वार्ता ब्लॉगर ब्लॉग्गिंग भगत सिंह भडास भय भारत भारतीय शिक्षा भाव गीत भावगीत भाषा भाषा शिक्षण भ्रष्टाचार मकर सक्रांति मक्खी मदद मदिरा मधुशाला मध्यान्ह भोजन योजना मध्यान्ह भोजन योजना मन मनीष मनुष्य मनोज कुमार मर्यादा महात्मा गाँधी महान महानदी महिला शिक्षा महिलास्वतंत्रता माँ माइक्रो पोस्ट माण्टेसरी माध्यमिक शिक्षा माध्यमिक शिक्षा परिषद माध्यमिक शिक्षा बोर्ड मानव अधिकार मानसिक यातना मान्यता मारवाड़ी माली माहौल मिड -डे मील मिड डे मील मिड डे मील योजना मित्र मीना मंच मुफ्त व अनिवार्य शिक्षा मुफ्तशिक्षा मूर्ख दिवस मूल्यांकन मूल्यांकन पद्धति मृत्यु मेरा अंतर्मन मेरिट मेहनत मोरारी बापू मोहन भगवत मौखिक गणित मौन मौलिक अधिकार युद्ध यू. पी. बोर्ड यूनिकोड यूनिसेफ़ यूपी बोर्ड योजना रंग रक्षा बंधन रवीन्द्र नाथ टैगोर रवीश कुमार रहमान राखी सावंत राजनीति राजस्थान राजा रामनरेश त्रिपाठी राष्ट्र राष्ट्र -प्रहरी शिक्षक राष्ट्र गान राष्ट्र-प्रहरी शिक्षक राष्ट्रगान राष्ट्रपिता राष्ट्रीय ज्ञान आयोग राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग रूचिपूर्ण शिक्षा रेडक्रास रेन वाटर हार्वेस्टिंग रोनाल्ड रीगन लक्ष्य लड़की लाल बहादुर शास्त्री लिंक लिंग भेद लिखना लिखना . साक्षरता लेख संग्रह लोग लोहा वकील वर्णमाला वर्षा वातावरण विकलांग विचारक विछार विजय विज्ञान विज्ञान शिक्षण विदेशी भाषा विद्यार्थी विद्यालय विनीत चौहान विपत्ति विरोध विवेक विश्व हाथ धोना दिवस विश्वास विष विषय वीडियो वृक्ष वृत्ति वैकल्पिक शिक्षा वैश्वीकरण व्यक्तित्व व्यवस्था व्याकरण व्यापार शक्ति शपथ शान्ति शारीरिक दण्ड शासनादेश शिक्षक शिक्षक का काम शिक्षक TEACHER शिक्षक का काम शिक्षक दिवस शिक्षक नेता शिक्षक संघ शिक्षक सम्मान शिक्षण शिक्षण पद्दति शिक्षा शिक्षा का अधिकार शिक्षा प्रणाली शिक्षा व्यवस्था शिक्षा संस्थान शैक्षिक प्रणाली शैक्षिक विचार शैक्षिक विमर्श शोक स-पुस्तक परीक्षा संकट संकल्प संकल्प प्रवीण त्रिवेदी संगठन संगीत संगोष्ठी संचार व सूचना प्रौद्योगिकी संजीव कुमार संयुक्त राष्ट्रसंघ संसाधन संस्कृति सचिन देव बर्मन सज्जन सदविचार सदस्यता सफल सफलता सफाई समय समय-प्रबंधन समाज समुदाय समुद्र समेकित शिक्षा सरकार सरकारी शिक्षा सरस्वती सर्व शिक्षा अभियान सर्वे सर्वेक्षण सह-शिक्षा पुस्तक साक्षरता साक्षरता अभियान साझा संस्कृति संगम सामान शिक्षा साहित्य सिस्टम सी.बी.एस.ई. सीखना सीखना-सीखना सीखने की प्रक्रिया सुख सुनना सुब्रमण्यम भारती सुविधा सूचना सूचना का अधिकार सौन्दर्य स्काउटिंग स्टीव जॉब्स स्तुति स्वछता स्वतंत्रता स्वामी रामतीर्थ हनुमान चालीसा हरिओम पवार हिंदी हिन्दी हिन्दी ब्लॉगिंग हिन्दुस्तान हिन्दू हैकिंग