10
शिक्षक भाई-बहनों से गिजुभाई बधेका की अपील



गिजुभाई का बालदर्शन 

उस प्रकार का बालदर्शन नहीं था, जो किसी जटिल विचार की स्थापना करता हो। गिजुभाइ बालदर्शन का कोई सिद्धान्त भी प्रतिपादित नहीं करते। वे तो बच्चों में इस प्रकार प्रवेश करते हैं जैसे कोई किसी मन्दिर में प्रवेश करता हो। वे बाल छवि देखकर मुग्ध होते हैं, आंखों में झांक कर उसके सपनों को पढ़ते हैं, उसकी वाणी सुनकर कोमलता का मधुर संगीत सुनते हैं और उसे खेलते, काम करते, उछलते, कूदते या गाते देखकर उसके साथ एकाकार हो जाते हैं। उनके लिए बालक या बालिका एक सम्पूर्ण मानवीय कृति होते हैं। वे बच्चों का तन पढ़ते हैं, बच्चों का मन पढ़ते हैं और उसका जीवन पढ़ते हैं।

एक टिप्पणी भेजें Blogger

  1. गिजुभाई का दर्शन और बाल-मनोविज्ञान शैक्षिक दृष्टिकोण से उत्तम कोटि का है.वस्तुतः शिक्षा में कई सारे घटक एक साथ काम करते हैं,इनमें आजकल राज्य की भूमिका सबसे अधिक साबित हो रही है और दुःख की बात यह है कि इस स्तर पर घोर निराशा का आलम है !
    जहाँ स्कूलों में बच्चे हैं वहाँ बुनियादी चीजें गायब हैं और जहाँ बुनियादी चीज़ें हैं वहाँ सिस्टम की गडबड है या बच्चे नहीं हैं !

    उत्तर देंहटाएं
  2. काश नक़्कारखाने में इस तूती की आवाज़ भी सुनाई दे. आज शहरों में बस विदेशी कार्टून और हैरी पाटर सरीखी कहानियों को चलन रह गया है...

    उत्तर देंहटाएं
  3. कहानी के लिए तो हम खुद ही बच्चे हो जाएँ !

    उत्तर देंहटाएं
  4. आपके प्रयास बहुत सराहनीय हैं... न केवल बालकों को प्रेरित करते हैं. बालकों से जुड़े कर्ताओं को भी निर्देशित करते हैं.

    उत्तर देंहटाएं
  5. भाई ,सबसे पहले मेरी टीप थी,अब गायब है ! क्या कर रहा है गूगल ब्लॉगर के साथ ?

    बहरहाल,गिजुभाई ने जिस तरह का दृष्टिकोण बच्चों के लिए रखा था,वह आदर्श स्थितियों के लिए था.आज के समय में राज्य की गलत नीतियां व दखलंदाजी पूरी शिक्षा व्यवस्था को चौपट कर रही है.

    उत्तर देंहटाएं
  6. जितने बड़े लबादे ओढ़ दिये हैं, वह तो उतारने पड़ेंगे।

    उत्तर देंहटाएं
  7. बच्चे कहां पढ रहे हैं जो शिक्षक पढें? आज चिल्ड्रन फिल्म फ़ेस्टिवल के लिए भी बच्चे उपलब्ध नहीं हैं:(

    उत्तर देंहटाएं
  8. सार्थक अपील !
    दुआ बस यही है ऐसे प्रयोग करने वाले बेवकूफ ना समझे जाये!

    उत्तर देंहटाएं
  9. प्रवीणजी निश्चित रूप से एक शिक्षक होने के नाते इन कहानियो को अपने छात्रो को समयानुसार जरुर सुनाउंगा । आपके प्रयास वाकई मे बहुत सराहनीय हैं....

    http://www.sheelgupta.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं

 
Top