6

आजादी रोटी नहीं, मगर दोनों में बैर नहीं।
पर कहीं भूख बेताब हुई तो आजादी की खैर नहीं।।
  • दिनकर





आजादी तो मिल गई, मगर, यह गौरव कहाँ जुगाएगा ?
मरभुखे ! इसे घबराहट में तू बेच न तो खा जाएगा ?
आजादी रोटी नहीं, मगर, दोनों में कोई बैर  नहीं,
पर कहीं भूख बेताब हुई तो आजादी की खैर नहीं।

हो रहे खड़े आजादी को हर ओर दगा देनेवाले,

पशुओं को रोटी दिखा उन्हें फिर साथ लगा लेनेवाले।
इनके जादू का जोर भला कब तक बुभुक्षु सह सकता है ?
है कौन, पेट की ज्वाला में पड़कर मनुष्य रह सकता है ?

झेलेगा यह बलिदान ? भूख की घनी चोट सह पाएगा ?

आ पड़ी विपद तो क्या प्रताप-सा घास चबा रह पाएगा ?
है बड़ी बात आजादी का पाना ही नहीं, जुगाना भी,
बलि एक बार ही नहीं, उसे पड़ता फिर-फिर दुहराना भी।
  • दिनकर 

  १५ अगस्त की याद में ..!!!


एक टिप्पणी भेजें Blogger

  1. करते रहो याद महाराज.....जब हमारी दास्तां भी न होगी दास्तानों में !
    बड़ा कठिन समय है जब हमें आज़ादी पाने नहीं बल्कि बचाने की लड़ाई अपनों से ही लड़नी पड़ रही है !

    उत्तर देंहटाएं
  2. इस भूख ने हॊ तो मुंह इतना बडा कर दिया देसी बैंक भी बस नहीं हो रहे हैं :)

    उत्तर देंहटाएं
  3. राष्ट्रकवि दिनकर के गुजरने के बाद उनके एक अनन्य मित्र ने तानाशाही बनाम रोटी और आजादी की लडाई की रहनुमाई की । यही आवाहन था लोकनायक का 'रोटी और आजादी को चुनो' ।

    उत्तर देंहटाएं
  4. bilkul sahi kaha apane , pet kee bhookh ke age aazadi nahin dikhai deti hai ajadi to unaki hai jo jaise chahe apane pet bhar rahe hain chahe daulat se ya phir havas se.

    उत्तर देंहटाएं
  5. यह कृति आज भी उतनी ही सामयिक है, धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  6. बलि एक बार ही नहीं, उसे पड़ता फिर-फिर दुहराना भी।
    वही काल -बेला आ गयी है!कालबेलिया नाग नाथने का प्राण ले चुका है

    उत्तर देंहटाएं

 
Top