Mid Day Meal : There is Staring Eyes .......but not of Children

24.5.11
This is the daily scenario these days...........in government schools, where Mid Day Meal is cooked in schools. There are staring eyes of the dogs........in place of children..........as we expect.
This proves that the dogs have more Smell-Power.

Isn't It?

4 टिप्‍पणियां:

  1. जेतनी संख्या मा खउहा हैं उतनी ही संख्या मा देखउहा ! ई खड़े-खड़े खाली फोटू खिंचा रहे हैं ?

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  2. ई लोग बनाय रहे हैं,हमको लगा घेर के खाय रहे हैं !

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  3. @संतोष त्रिवेदी
    ई तो हैये है .....मुफ्त माल में कई लोगों की निगाह रहती है|
    इसलिए खउहा और देखउहा मा ज्यादा अंतर नहीं है| यह फोटू बच्चों को मिड डे मील के वितरण के बाद की है ......जिसमे बनाने वाली रसोइये अपने लिए कुछ और रोटियां सेंक रही हैं| जाड़े के दिन हैं ....जाहिर है चूल्हे का सानिध्य सबको भाता है|

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  4. अच्छी नज़र है,पूरे तंत्र पर तमाचा |

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं