Sep 7, 2009

आदमी ने कुत्ते को काटा टाइप की ख़बरों पर अपनी निजी राय को आम राय न बनाएं!!


By on 5:00 AM

परसों पाँच सितम्बर था ...जाहिर है ब्लॉग जगत में शिक्षक दिवस पर भरमार थी आलेखों की , सम्मान आलेखों की , संस्मरणों की ......और बहुत कुछ भडास भी ! पर ज्यादातर आलेखों को पढने के बाद अधिकांश लेख (लेख कहना शायद मुनासिब ना हो?) शायद भडास ही ठीक रहेगा की भूमिका में लगे !!

हो सकता है की अधिकांश जिंदगी में आपका सामना अच्छे अध्यापकों से ना पडा हो ...पर इतने खराबों के बीच में आप एक अदद अच्छा शिक्षक ना पा सके तो शायद आप से भगवान रूठे रहे होंगे ? ज्यादा समय तो ना मिला लेकिन कुछ ब्लोग्स में फलां शिक्षक ने क्या क्या कुकर्म किए ...इसकी पूरी लिस्ट देख शिक्षक दिवस पर अच्छे आलेखों और संस्मरणों से प्रेरणा लेने का उत्साह काफूर होता नजर आया ...लगा की शायद कहीं ग़लत पेशा तो नहीं अपना लिया


शिक्षा की हर गंभीर या अगंभीर चर्चा में अक्सर अध्यापक की कमियां निकलने वाले अक्सर मिल ही जाते हैं पर यह उसी सच्चाई के कारणवश ही होता कि समाज अध्यापकों से आज भी अन्य लोगों कि तुलना में कंहीं अधिक ऊँचे मापदंडों पर खरे उतरने कि कोशिश लगातार करता रहा है मेरा मानना रहा है कि भारत के अधिकांशतः अध्यापक अनेक कठिनाइयों समस्यायों के क्षेत्र में जूझते हुए कार्य करते रहते हैं अध्यापकों की कमी , अन्य कार्यों में उनकी उर्जा खपाना , अध्यापक प्रशिक्षण संस्थानों कि आई बाढ़ के बावजूद अध्यापक प्रशिक्षण का स्तर लगातार गिर रहा है , जाहिर है इस तरह कि कमियों से उत्पन्न समस्यायों कि जिम्मेदारी शिक्षकों के बजाय शैक्षिक नीति निर्धारकों कि के ऊपर ही आनी चाहिए


ज्यादा विचार किया और यह आलेख पढा (पुराना है ..पर link देने से बेहतर यहाँ पुनः चेंप देना लगा )


चाहे जितना हम अपनी शैक्षिक प्रणाली को कोस ले उसके बावजू हर क्षेत्र में सफल व्यक्ति के पीछे एक शिक्षक की भूमिका देखी जा सकती है । एक स्कूल में तमाम तरह के संसाधनों के बावजूद एक शिक्षक के न होने पर वह स्कूल नहीं चल सकता है । दुनिया में ऐसे हजारों उदाहरण हैं, और रोज ऐसे हजारों उदाहरण गढे जा रहे हैं ,जंहा बिना संसाधनों के शिक्षक आज भी अपने बच्चों को गढ़ने में लगे हैं । वास्तव में आज के प्रदूषित परिवेश में यह कार्य समाज में आई गिरावट के बावजूद हो रहा है ,इसे तो दुनिया का हर निराशावादी व्यक्ति को भी मानना पड़ेगा ।


आज शिक्षक दिवस को 5 सितम्बर के दिन हम सबको यह बातें ध्यान में रखनी चाहिए , इसके साथ हमारे मस्तिष्क में यह प्रश्न भी उठना ही चाहिए कि आख़िर अपने पुरातन संस्कृति में महत्व के बावजूद आज समाज में एक शिक्षक इतनी अवहेलना का निरीह पात्र क्यों बन जाता है? स्कूली शिक्षा का यह स्तम्भ जब तक मजबूत नहीं होगा ,तब तक अपनी शैक्षिक प्रणाली में कोई आमूल - चूल परिवर्तन फलदायी नहीं हो सकता है । हाँ सब को यह समझना होगा कि संस्कृति से अधूरे बच्चे केवल साक्षरों की संख्या ही बढ़ा सकते हैं, पर कोई मौलिक परिवर्तन उनके बूते कि बात नहीं?

डॉ सर्वपल्ली राधाकृष्णन का जन्म दिन आज हम शिक्ष दिवस पर मना रहे हैं । एकलव्य जैसे शिष्य देने वाली गुरुकुल शिक्षा कि संस्कृति वाले इस देश की शिक्षा के बदले मुखौटे में शिक्षक ,शिक्षार्थी शिक्षा के मायने ही बदल दिए गए हैं मार्गदर्शक कहे जाने वाले गुरु और शिष्य के मध्य नैतिक मर्यादाओं में तेजी से हो रही गिरावट पूरे समाज के लिए चिंतनीय है समाज की गिरावट से होड़ लेते हुए शिक्षा से जुड़े हुए उच्च-आदर्श मूल्य जिस तरह से खोये जा रहे हैं, उससे शिक्षक भी पूर्णतयः विचलित होते दिख रहे हैं


व्यावहारिक खामियों के चलते सर्व शिक्षा का प्रयोग सफल नहीं हो पा रहा है । नैतिक शिक्षा पढ़ाई जाने के बावजूद नैतिकता कितनी कायम है , यह समाज के आईने में दिख रहा है। इस शैक्षिक व्यवस्था में अधिकारियों की छाया शिक्षकों पर, शिक्षकों की छाया छात्रों पर पड़ती है । राजनीति और अफसरशाही में खोट से ही अव्यवस्थाओं का आगमन हुआ है ।



जाहिर है इस बात पर सिर्फ़ क्षोभ ही जाहिर किया जा सकता है कि आज हमारा शैक्षिक जगत अमीरी व गरीबी कि दो वर्गीय व्यवस्था में साफ बटा हुआ दिख रहा है। आज ज्ञान के भंडार को खरीदा जा रहा है, और ज्ञान पाने के लिए अकूत धन खर्च करना पड़ रहा है।शैक्षिक हिस्से में पारदर्शिता समाप्तप्राय है ,और इस पवित्र पेशे में माफिया कब्जा जमा चुके हैं । यह कहा जाए कि शिक्षा अब धन व बाहुबलियों कि मुट्ठी में है ,तो ग़लत न होगा ।


व्यवसायीकरण के इस दौर में शिक्षा को शिक्षा को कुछ लोगों के हाथ कि कठपुतली बना दिया गया है आख़िर शिक्षक भी इनकी चपेट कंहीं कंहीं से ही जाते है जाहिर है कि जब पूरे समाज का जो भटकाव हो रहा है , तो शिक्षक भी तो इसी का एक अंग ही तो है



शिक्षक संगठन भी अपने ही फायदों कि आड़ में लेकर आन्दोलन करते है , कभी शैक्षिक गुणवत्ता और उसका उन्नयन उनके आन्दोलन का हिस्सा या मुद्दा नहीं बना है । स्कूलों में बच्चों का कितना बहुआयामी और तथा समग्र विकास हो सकता है ,यह उन्हें पढ़ने वाले शिक्षकों कि लगन, क्षमता व उनकी कार्यकुशलता पर ही निर्भर होता है । सरकार को भी इस तथ्य को मानना ही चाहिए कि अच्छी गुणवत्ता और कौशलों से पूर्ण पठन - पाठन तभी सम्भव है जब हर अध्यापक यह मानकर कार्य करे कि वह नए भारत के भावी कर्णधारों को तैयार कर रहा है ।

आज शिक्षक दिवस के दिन सभी नीति निर्धारकों को भी चिंतन करना चाहिए कि क्या अपेक्षित बदलाव हो पा रहा है । समाज के सामने यह स्पष्ट किया जन चाहिए कि सारी समस्यायों कि जड़ केवल शिक्षा नीतियां और अध्यापक ही नहीं है । विश्लेषण का विषय यह होना चाहिए कि जिनके कारण शैक्षिक नीतियां अपना समय के अनुरूप कलेवर और चोला नहीं बदल पाती है । इस परिवेश में जंहा हर उस व्यक्ति कि तैयारी व शिक्षा को अधूरा मना जाता है , जिसने लगातार सीखते रहने का कौशल न प्राप्त किया हो और उसका उपयोग न कर रहा हो । जो अध्यापक नई तकनीकों से परिचित नहीं हो पा रहे हों , उनका योगदान शैक्षिक आचरण में लगातार कम होता जाता है । आज के परिवेश में वही अध्यापक अपना सच्चा उत्तर-दायित्व निभा सकेगा जो स्वयं अपनी रचनात्मकता व सृजन शीलता के प्रति आश्वस्त हो और अध्ययन शील हो । ऐसी स्थितियां उत्पन्न किए जाने पर उसका स्वागत किया जाना चाहिए जंहा शिक्षक और छात्र साथ-साथ सीखें , चिंतन और निष्कर्ष पर मेहनत करें ।



एक प्राइमरी का मास्टर होने के नाते आज शिक्षक दिवस के दिन मैं यह शपथ लेता हूँ कि अपने कर्तव्य पथ सेकभी भी नहीं टलूंगा । साथ ही अपने उन सभी गुरुजनों को प्रणाम करता हूँ , जिनके कारण मैं आज अपने सोच व विचार की ताकत को पा सका हूँ ।

Praveen Trivedi ~ प्रवीण त्रिवेदी

अपनी जन्मस्थली जनपद फतेहपुर मे बेसिक शिक्षा परिषद के अंतर्गत प्राइमरी के मास्टर के ऱूप मे कार्यरत हूँ। हमेशा से मेरा यह मानना रहा है, कि हमारी स्कूली व्यवस्था मे ऐसा कुछ ज़रूर होना चाहिए जिससे शिक्षक सफलता का लगातार एहसास करते रहें।

15 comments:

  1. सही कहा आपने. मैं पूर्णतः सहमत हूँ.

    ReplyDelete
  2. ऐसी स्थितियां उत्पन्न किए जाने पर उसका स्वागत किया जाना चाहिए जंहा शिक्षक और छात्र साथ-साथ सीखें , चिंतन और निष्कर्ष पर मेहनत करें ।

    सच्ची बात । बेहतर अभिव्यक्ति ।

    ReplyDelete
  3. हार्दिक शुभकामनाएं !

    ReplyDelete
  4. एक्दम सही.

    रामराम.

    ReplyDelete
  5. आप अपनी शपथ को आजीवन निभा सकें,उस के लिए शुभ कामनाएँ।

    ReplyDelete
  6. शिक्षक का स्थान कुछ लोगों की भड़ास से नहीं बदल सकता

    ReplyDelete
  7. कुछ घटनाएँ क्षोभ का कारण बनती हैं
    किन्तु इस पतन पर चिन्तन भी आवश्यक है, जो समाज को करना चाहिए

    मुझे तो गुरूजनों पर नाज़ है, उन्हें नमन

    बी एस पाबला

    ReplyDelete
  8. लेकिन सच्चाई भी है कि आज शिक्षा के क्षेत्र में आने वाले लोग खुशी-खुशी नहीं आ रहे

    ReplyDelete
  9. @काजल कुमार !

    क्योंकि हम अपनी प्रतिभाओं को इस क्षेत्र में आने के लिए प्रेरित व प्रोत्साहित नहीं कर पा रहे .....सो उनमे कैसा आकर्षण?

    ReplyDelete
  10. प्रवीण जी,
    शिक्षा को हर बच्चे तक पहुंचाने का महौल तो हमें ही बनाना होगा।मुझे पता नहीं क्यों लगता है कि सरकारी स्तर पर लाख कोशिशों के बावजूद शिक्षकों में वह समर्पण का भाव नहीं आ रहा है ---जो आना चाहिये।मैं भी नगार महापालिका के स्कूल में ही दर्जा आठ तक पढ़ा हूं ---मुझे याद है कि मेरे मौलवी सहब(प्राचार्य महोदय)दिन की पढ़ाई पूरी होने के बाद रात में पूरे क्लास के बच्चों को धिबरी और लालटेन लेकर बुलाते थे और रात में दस दस बजे तक पढ़ाते थे,----यह भी याद है कि बोर्ड के इम्तहान के समय आदरणीय शास्त्री जी आदरणीय मौलवी साहब,हम लोगों को पहुंचाने के लिये परीक्षा केन्द्रों तक जाते थे,केन्द्र पर हर बच्चे की उपस्थिति सुन्श्चित करते थे----क्या आज प्राथमिक स्तर के अध्यापकों में यह समर्पण है?
    हम लोगों को तो ऐसे अध्यापकों को खोज करनी पड़ती है रोल माडल पर फ़िल्म बनाने के लिये---इसलिये यह समर्पण का भाव जब तक शिक्षकों में नहीं पैदा होग हम शिक्षा के संकल्प को नहीं पूरा कर सकेंगे।
    शुभकामनाओं के साथ्।
    हेमन्त कुमार

    ReplyDelete
  11. @ हेमंत जी !

    आपकी बातों से असमति का प्रश्न नहीं है !! देखिये वह समर्पण और वह स्नेह तो अब संभव नहीं है की हम अध्यापक में ला सकें ...पर वह अपनी नियत ड्यूटी ही निभा सके यही कम ना माना जाना चाहिए !!


    यहाँ प्रश्न यह था अध्यापकों की कमी , अन्य कार्यों में उनकी उर्जा खपाना , अध्यापक प्रशिक्षण संस्थानों कि आई बाढ़ के बावजूद अध्यापक प्रशिक्षण का स्तर लगातार गिर रहा है , जाहिर है इस तरह कि कमियों से उत्पन्न समस्यायों कि जिम्मेदारी शिक्षकों के बजाय शैक्षिक नीति निर्धारकों कि के ऊपर ही आनी चाहिए ।


    पर हम सब जानते हैं की सभी समस्यायों की जड़ हम अध्यापकों को मानकर सस्ता और शायद तथाकथित निदान ढूंढ निकालते हैं !!


    मैं दावे के साथ कह सकता हूँ आज भी प्रतिदिन विद्यालयों में खपने और रमने वाला अध्यापक सरकारी व्यवस्था में स्वयं के लिए प्रोत्साहन अब तक नहीं खोज सका है !

    आप तो बेसिक शिक्षा परिषद् के विषय में भलीभांति जानते ही हैं?

    बेसिक शिक्षा परिषद् की हर कड़ी बेईमानी की मिसाल बन चुकी हैं मंत्री और बड़े अधिकारीयों को छोड़ दें.........आज 95 % ब्लाक संसाधन केन्द्रों व न्याय पंचायत केन्द्रों की महती जिम्मेदारी निभाने वाले कामचोर अध्यापक ही हैं ,,जाहिर है यह ऊपर की व्यस्था ही होगी !!


    आज बेसिक शिक्षा परिषद् की हर व्यवस्था भ्रष्टाचार को ही लक्ष्य करके बनाई जा रही है , प्रशिक्षण मजाक बन कर रह गए है ....... आखिर सबसे अधिक सस्पेंसन करने वाला विभाग कार्यपदत्ति और प्रणाली में सुधार का उपचार क्यों नहीं निकाल चुका है ??



    ज्यादा लम्बा हो रहा है ...आगे फिर कभी?

    ReplyDelete
  12. आज की स्तिथि में वो सम्पर्पण का भाव नहीं रहा . क्या इसका कारण ज्यादा शिक्षा तो नही . आलकल शिक्षित होने का मतलब गुनी नहीं डिग्री धरी हो गया है . गुणात्मक नहीं परिनात्मक हो गया है.
    सब रोजगार ढूंढ रहे हैं स्तर नहीं

    ReplyDelete
  13. प्रिय प्रवीण भाई धन्‍यवाद आप मेरी गुल्‍लक में आए। आप मेरे अनुसरणकर्त्‍ता भी बने।

    मुझे पता नहीं है कि आपने इस पोस्‍ट की शुरुआत गुल्‍लक में मेरी पोस्‍ट असंवेदनशीलता शिक्षा की खलनायिका को पढ़कर की है या ऐसा ही कुछ और कहीं और पढ़ा है। एक शिक्षक के रूप में मेरी पोस्‍ट ने आपको झझकोरा है या तकलीफ पहुंचाई है तो मैं समझता हूं कि मैं सफल रहा हूं। आप जैसे शिक्षकों को मेरे कोटि कोटि चरण स्‍पर्श।

    आपकी इस पोस्‍ट के बहाने जिन और साथियों ने अपने विचार व्‍यक्‍त किए हैं उन सबसे मेरा एक ही अनुरोध है कि बीमारी से मुंह मोड़ लेने से बीमारी खत्‍म नहीं हो जाती। हमारी सबकी‍ दिक्‍कत यही है कि हम केवल अच्‍छे के गुणगान में लगे रहते हैं। जो अच्‍छा नहीं है उसे अच्‍छा बनाने की तरफ ध्‍यान ही नहीं देते।

    शिक्षा,शिक्षक और स्‍कूलों को हमने सरकार मात्र का जिम्‍मा मान लिया है। नागरिक के नाते शायद हम अपनी जिम्‍मेदारियां भूल गए हैं। उम्‍मीद है हम इससे आगे जाएं।

    ReplyDelete
  14. @राजेश उत्साही जी,

    आप B+ रहें!

    दरअसल आज हम अपनी कमियों को तो स्वीकार करने को तैयार हैं ... पर सामाजिक दारिद्र्य का क्या करें ?

    आप नाहक परेशान ना हों ?यह मानसिक अवसाद
    इस लेख के कारण था!
    हालाकि आज गिरिजेश भाई का जवाब देखा ....तो संतोष हुआ!!

    बकिया आप को मेरा सादर नमन !!

    ReplyDelete

Bell Books DOWNLOAD EDUCATION Exam Management Flag Gandhi golgappa GREETINGS Hanuman Humour HYGENE Intro INVITATION JUSTICE lock MATHS MEDIA Mid Day Meal mp3 NCERT NEWS AND VIEWS nursury PERSONALITY Postal Primary Teachers QUOTE REPORT rhymes RTE SCHOOL SCIENCE SERVICES SOCIETY SOFTWARE Theft अक्षमता अच्युतानंद अनुभव अनुशासन अपंगता अब्राहम लिंकन अमर उजाला अमिताभ बच्चन अयोध्या असफल असर आँसू आई.सी.एस.ई आईआईटी आचार संहिता आचार्य रजनीश आतंकवाद आत्मविश्वास आमंत्रण आर्थिक पक्ष आलोचना इंटरव्यू इंडिया टुडे इतिहास ईश्वर उच्च शिक्षा उच्चारण उत्तर प्रदेश उत्तराखण्ड उत्साह उद्देश्य उन्नति उपदेश उपलब्धियां उपेक्षा एकल विद्यालय एन.पी.ई.जी.ई.एल. एनसीटीई ऐश्वर्य ऑनलाइन ट्रांसफर कक्षा कक्षा व्यवस्था कबीरवाणी कमजोर कमुनिटी ब्लॉग करिश्मा कर्तव्य कर्म कलह कल्पनाशीलता कविता कविता स्कूल कष्ट कस्तूरबा कस्तूरबा गांधी आवासीय बालिका विद्यालय योजना कस्तूरबा गांधी बालिका विद्यालय योजना काँटा काम कामकाजी महिला कायर कार्बोहाइड्रेट कार्य किताब किन्डरगार्टन केंद्रीय विघालय कॉलेज कौशल खड़ी बोली खतरनाक खोज-बीन ख्वाहिश गणित गणित का सौन्दर्य गणित शिक्षण गतिविधि गतिविधियाँ गतिविधियां गरम गाँधी जी गाइड गिजुभाई बधेका गीत गीता गुजरात गुणवत्ता गुणवत्ता प्रमाण-पत्र गुरु गुलाम गुस्सा गूगल गेंदा फूल ग्राम प्रधान ग्लूकोज घड़ी घरेलू कार्य घुटन चरित्र चर्चा चिंतन चीज छात्र छात्र-अद्यापक अनुपात छोटी बिटिया जंज़ीरें जगत जगदीश सोलंकी जगमोहन सिंह राजपूत जन गण मन जन सूचना अधिकार जन-प्रतिनिधि जनता जल जल कर जांच जागरण जिंदगी जिज्ञासा जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी जिला शिक्षा एवं प्रशिक्षण संस्थान जीवन जीविका जेलखाना जोश ज्ञान ज्ञानी टाइपिंग टिप्पणी टीचर टीचर्स ऑफ़ इंडिया टेम्पलेट टैक्स टैगोर ट्रेनिंग ठंडा ठण्ड डाक्टर डायट डॉ.सुशील जोशी डोमेन ड्राप आउट ड्रेस तकनीकी तर्क-वितर्क तलवार तार्किकता तैनाती तैयारी थॉमस अल्वा एडिसन दण्ड दरिद्रता दर्पण दर्शन दलाल दवा दस्तकारी दिनेशराय द्विवेदी दिल्ली -6 दिशा दीपावली दुःख दुनिया दुर्जन देव आनंद देश देश का भविष्य देश भक्ति दैनिक जागरण दोष द्वेष धन धर्म नई तालीम नक़ल नर्सरी नवाचार नवोदय विघालय नाटक नामकरण नाव नियमावली नियुक्ति निरक्षर निरक्षरता नेत्र नौकरी न्याय पका-पकाया भोजन पठन क्षमता पढ़ना पत्र पथ पदाधिकारी पदोन्नति पब्लिक -प्राइवेट-पार्टनरशिप परिवर्तन परिवार परीक्षा परीक्षा व्यवस्था परोपकारी पर्यावरण पर्ल एस. बक पहचान पाठ पाठशाला पाठ्य-पुस्तकें अध्यापक पाठ्यक्रम पाठ्यपुस्तक पानी पाप पाबला पार्थिव पावर पॉइंट पाषाण पिछड़ापन पिटाई पिटारा टूल बार पिता पुत्र पुरस्कार पुरुषार्थ पुष्प पुस्तक पुस्तकालय पूर्व-प्राथमिक शिक्षा पेंशन पेयजल पॉडकास्ट पोर्टल प्यार प्रकाश प्रकृति प्रचार प्रजा प्रभु चावला प्रयोग प्रलय प्रवीण त्रिवेदी प्रशिक्षण प्रसंग प्रस्तुति प्राइमरी का मास्टर प्राइमरी शिक्षा प्राइवेट स्कूल प्राथमिक विद्यालय प्राथमिक शिक्षक प्राथमिक शिक्षक संघ प्राथमिक शिक्षा प्रेम प्रोफाइल पढ़ने की दक्षता फतेहपुर फल फिल्मी फीडबैक फीस फूल बच्चा बच्चे बच्चे एवं समस्या बच्चों का होमवर्क बच्चों की परवरिश बहराइच निर्वाचन बहाव बहुकक्षा शिक्षक और छात्र अनुपात बात-चीत बाल अधिकार बाल-केंद्रित शिक्षा बाल-साहित्य बालगीत बालदर्शन बालश्रम बालिका शिक्षा बिच्छू बीआरसी बीएड बुनाई बुनियादी शिक्षा बुराई बेरोजगार बेसिक शिक्षा बेसिक शिक्षा अधिकारी बेसिक शिक्षा परिषद बेसिक शिक्षा परिषद् बेसिक शिक्षा विभाग बैठक व्यवस्था बोलना बोली ब्लॉग ब्लॉग मदद ब्लॉग-वार्ता ब्लॉगर ब्लॉग्गिंग भगत सिंह भडास भय भारत भारतीय शिक्षा भाव गीत भावगीत भाषा भाषा शिक्षण भ्रष्टाचार मकर सक्रांति मक्खी मदद मदिरा मधुशाला मध्यान्ह भोजन योजना मध्यान्ह भोजन योजना मन मनीष मनुष्य मनोज कुमार मर्यादा महात्मा गाँधी महान महानदी महिला शिक्षा महिलास्वतंत्रता माँ माइक्रो पोस्ट माण्टेसरी माध्यमिक शिक्षा माध्यमिक शिक्षा परिषद माध्यमिक शिक्षा बोर्ड मानव अधिकार मानसिक यातना मान्यता मारवाड़ी माली माहौल मिड -डे मील मिड डे मील मिड डे मील योजना मित्र मीना मंच मुफ्त व अनिवार्य शिक्षा मुफ्तशिक्षा मूर्ख दिवस मूल्यांकन मूल्यांकन पद्धति मृत्यु मेरा अंतर्मन मेरिट मेहनत मोरारी बापू मोहन भगवत मौखिक गणित मौन मौलिक अधिकार युद्ध यू. पी. बोर्ड यूनिकोड यूनिसेफ़ यूपी बोर्ड योजना रंग रक्षा बंधन रवीन्द्र नाथ टैगोर रवीश कुमार रहमान राखी सावंत राजनीति राजस्थान राजा रामनरेश त्रिपाठी राष्ट्र राष्ट्र -प्रहरी शिक्षक राष्ट्र गान राष्ट्र-प्रहरी शिक्षक राष्ट्रगान राष्ट्रपिता राष्ट्रीय ज्ञान आयोग राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग रूचिपूर्ण शिक्षा रेडक्रास रेन वाटर हार्वेस्टिंग रोनाल्ड रीगन लक्ष्य लड़की लाल बहादुर शास्त्री लिंक लिंग भेद लिखना लिखना . साक्षरता लेख संग्रह लोग लोहा वकील वर्णमाला वर्षा वातावरण विकलांग विचारक विछार विजय विज्ञान विज्ञान शिक्षण विदेशी भाषा विद्यार्थी विद्यालय विनीत चौहान विपत्ति विरोध विवेक विश्व हाथ धोना दिवस विश्वास विष विषय वीडियो वृक्ष वृत्ति वैकल्पिक शिक्षा वैश्वीकरण व्यक्तित्व व्यवस्था व्याकरण व्यापार शक्ति शपथ शान्ति शारीरिक दण्ड शासनादेश शिक्षक शिक्षक का काम शिक्षक TEACHER शिक्षक का काम शिक्षक दिवस शिक्षक नेता शिक्षक संघ शिक्षक सम्मान शिक्षण शिक्षण पद्दति शिक्षा शिक्षा का अधिकार शिक्षा प्रणाली शिक्षा व्यवस्था शिक्षा संस्थान शैक्षिक प्रणाली शैक्षिक विचार शैक्षिक विमर्श शोक स-पुस्तक परीक्षा संकट संकल्प संकल्प प्रवीण त्रिवेदी संगठन संगीत संगोष्ठी संचार व सूचना प्रौद्योगिकी संजीव कुमार संयुक्त राष्ट्रसंघ संसाधन संस्कृति सचिन देव बर्मन सज्जन सदविचार सदस्यता सफल सफलता सफाई समय समय-प्रबंधन समाज समुदाय समुद्र समेकित शिक्षा सरकार सरकारी शिक्षा सरस्वती सर्व शिक्षा अभियान सर्वे सर्वेक्षण सह-शिक्षा पुस्तक साक्षरता साक्षरता अभियान साझा संस्कृति संगम सामान शिक्षा साहित्य सिस्टम सी.बी.एस.ई. सीखना सीखना-सीखना सीखने की प्रक्रिया सुख सुनना सुब्रमण्यम भारती सुविधा सूचना सूचना का अधिकार सौन्दर्य स्काउटिंग स्टीव जॉब्स स्तुति स्वछता स्वतंत्रता स्वामी रामतीर्थ हनुमान चालीसा हरिओम पवार हिंदी हिन्दी हिन्दी ब्लॉगिंग हिन्दुस्तान हिन्दू हैकिंग