जो खोजना चाहते हों वह यहाँ खोजें

वो बेल कभी न होना तुम......

मत यकीन कर हाथों की लकीरों पर,
किस्मत उनकी भी होती है, जिनके हाथ नहीं होते।




इसलिए जिंदगी किस्मत के सहारे छोडने की बजाए, कर्म पर विश्वास करो। जब तक दूसरों के सहारे रहोगे, तब तक बेबसी पीछा नहीं छोडने वाली।


कहीं पढ़ा था ....  

वो बेल कभी न होना तुम

जो परवान चढ़े

दूसरों के सहारे!

18 comments

स्वागत है त्रिवेदी जी! प्रेरणादायक!

Reply

वाह मन में ओज भरने वाली पोस्ट !

Reply

हमको जो मिला है उसको भूलकर, जो नहीं मिला है उसमें परेशान रहते हैं। उत्साह भर गया।

Reply

ये तो बहुत बढिया बात कह दी मास्साब जी ने!

Reply

ज़बरदस्त प्रेरणादायी बात !
हुज़ूर आते-आते बहुत देर कर दी !

Reply

शायद फायरफोक्स पर तकनीकी त्रुटि के कारण आप संलग्न वीडियो नहीं देख सकें | कृपया पुनः यहाँ देख सकते हैं| अपंगता के बावजूद बेबसी छोड़ अपने पर विश्वास का अद्भुत उदाहरण लगते है ....वीडियो में दिखाए गए शख्स|

Reply

अच्‍छी प्रस्‍तुति ।

Reply

समाज का सहयोग और (अभावपूरक) साधनों की उपलब्धता मनोबल को ऊँचा उठा ही देते हैं..
चाहे फिर वह होकिंस जैसा वैज्ञानिक ही क्यों न हो...
भारत के अष्टावक्रों का पूरा जीवन तो आर्थिक संघर्षों में ही बीतता है. प्रतिभा को निखारने का अवसर ही नहीं मिलता.

Reply

मत यकीन कर हाथों की लकीरों पर,
किस्मत उनकी भी होती है, जिनके हाथ नहीं होते।
यह शेर चुरा कर ले जा रहा हुं, इतनी सुंदर सुंदर बाते लिखि आप ने धन्यवाद

Reply

प्रेरणादायक प्रस्‍तुति|
way4host

Reply

प्रेरणादायक!

Reply

बहुत ही प्रेरणादायक बात कही मास्साब!

Reply

बेल न बन वृक्ष की दृढ़ता पैदा करना ही कर्म है॥

Reply

wha kya baat hai ya panktiya mujha bahut pasand aye jis ma likh tha ke kismat tho unki bhi hoti hai jinka haath nahi hai.
Par aaj kal log kismat ko jyada manta hai.
Unko apna par kam apni hath ki lakiro aur pandito par vishwas hai.
Rahul
JMD Empire Shop

Reply

वाह आज की बेहतरीन पंक्तियाँ...
बांटने के लिए धन्यवाद!

Reply

प्रवीण त्रिवेदी जी,
नमस्कार,
आपके ब्लॉग को "सिटी जलालाबाद डाट ब्लॉगपोस्ट डाट काम"के "हिंदी ब्लॉग लिस्ट पेज" पर लिंक किया जा रहा है|

Reply

VERY GOOD..

Reply

एक टिप्पणी भेजें