खुल जा सिमसिम (Type & Search)

Every day, every hour .......... It yells

4.6.11


Do Not Hurt Me!
Every day, every hour as the silent screams, yells that do not hurt me.

(कभी इसी चित्र को अपने मूल ब्लॉग "प्राइमरी का मास्टर" में माइक्रो पोस्ट में चिपकाया था |.....शायद वहाँ की पाठक टीपें आपको कुछ और आनंद दें ?)

3 टिप्‍पणियां:

  1. घंटी किसी की भी बजे ,उसे अच्छी नहीं लगती,फिर तो ये 'घंटा-महाशय' हैं !

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  2. छुट्टी के समय आजादी का उद्घोष करता इस घंटी का स्वर छात्रों और अध्यापकों दोनों के मन को आनन्द से भर देता है।

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं