The Rules are INTACT......though The Reality is Something Else

The Rules are INTACT..............!



But ...................The Reality is Something Else 

1 comments:

भइया,जिन्होंने पहले तार भेजा है उनका खर्चा बाकी रह गया है.यही मारे ऊ खुल नहीं पा रहा है !

Reply

एक टिप्पणी भेजें